आओ न पंछी

द्वारा – अत्रेया अग्रहरी

You can listen to the article here or read the transcript below…

आओ न पंछी,
एक बार फिर से वही उड़ान भर के दिखाओ न पंछीः
छूट गया जो पंखो से तुम्हारे,
वही हौसला लाओ न पंछीः
अब आओ न पंछी ।
घर के बाहर चैखट पर जो तुम्हारा बसेरा था,
उसको कैसे तुम भूल गये पंछी –
हिम्मत थी तुम्हारी,
जो तिनके इक्ठ्ठे कर आपस में-
आनंद का घोसला बनाया ।
कोई सोने का पिंजरा तो नही न ?
इसलिये वापस आओ न पंछी ।
देखेंगे जब शाम के सूरज के सामने,
तुम्हारे पंखो की उड़ान से फैले आसमां को –
तब ज़रूर से ज़रूर यही गुनगुनायेंगे सब,
आओ न पंछी,
की फिर से वही उड़ान भर के दिखाओ न पंछी ।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s